Om Shanti
Om Shanti
कम बोलो, धीरे बोलो, मीठा बोलो            सोच के बोलो, समझ के बोलो, सत्य बोलो            स्वमान में रहो, सम्मान दो             निमित्त बनो, निर्मान बनो, निर्मल बोलो             निराकारी, निर्विकारी, निरहंकारी बनो      शुभ सोचो, शुभ बोलो, शुभ करो, शुभ संकल्प रखो          न दुःख दो , न दुःख लो          शुक्रिया बाबा शुक्रिया, आपका लाख लाख पद्मगुना शुक्रिया !!! 

Murli of August 22, 2012



Essence: Sweet children, while sitting or moving around and doing everything, remain silent. Remember the Father and you will receive your inheritance. There is no need for songs or poetry.

Question: Which particular aspect is proven by calling the Father the Liberator?

Answer: If the Father is the One who liberates us from sorrow, that is, from the five vices, then it must surely be someone else who traps us in them. The Liberator can never trap you. He is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Therefore, how could He cause sorrow for anyone? Children remember that Father when they are unhappy. Ravan is the one who causes you sorrow. Ravan, Maya, curses you whereas the Father comes to give you your inheritance.

Song: The shower of knowledge is for those who are with the Beloved.

Essence for dharna:
1. Always remember: When others see you doing something, they will do the same. Therefore, never perform any action that is against shrimat under the influence of the vices.
2. You have to be interested in doing service. Engage yourself in service without being asked. Never become like salt water with one another.

Blessing: May you be a powerful soul and use all the powers to finish all complaints and become complete.

If you have any weakness inside you, then understand the reason for that and resolve it because it is Maya's discipline to come to you through whatever weakness you have and not allow you to become a conqueror of Maya. Maya will take benefit of that weakness and it will even be that weakness that deceives you at the end. Therefore, accumulate a stock of all powers, become a powerful soul and, with the experimentation of yoga, finish all complaints and become complete. Remember the slogan: If not now, then never!

Slogan: Only those who finish the obstacles with the powers of peace and patience are destroyers of obstacles.

मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - तुम उठते-बैठते सब कुछ करते चुप रहो, बाप को याद करो तो वर्सा मिल जायेगा, इसमें गीत कविता आदि की भी दरकार नहीं है''

प्रश्न: बाप को लिबरेटर कहने से कौन सी एक बात सिद्ध हो जाती है?

उत्तर: जब बाप दु:खों से अथवा 5 विकारों से लिबरेट करने वाला है तो जरूर उसमें फँसाने वाला कोई दूसरा होगा। लिबरेटर कभी फँसा नहीं सकता। इसको कहा जाता है दु:ख हर्ता सुख कर्ता तो वह कभी किसी को दु:ख कैसे दे सकते। जब बच्चे दु:खी होते हैं तब उस बाप को याद करते हैं। दु:ख देने वाला है रावण। रावण माया श्रापित करती। बाप आते हैं वर्सा देने।

गीत:- जो पिया के साथ है...

धारणा के लिए मुख्य सार:
सदा यह बात याद रखना है कि जो कर्म हम करेंगे, हमें देख और भी करने लग पड़ेंगे। इसलिए कभी भी श्रीमत के विपरीत विकारों के वश हो कोई भी कर्म नहीं करना है।
सर्विस का शौक रखना है। बिगर कहे सेवा में लग जाना है। कभी भी आपस में लून-पानी नहीं होना है।

वरदान: सर्व शक्तियों द्वारा हर कम्प्लेन को समाप्त कर कम्प्लीट बनने वाले शक्तिशाली आत्मा भव

अन्दर में अगर कोई भी कमी है तो उसके कारण को समझकर निवारण करो क्योंकि माया का नियम है कि जो कमजोरी आपमें होगी, उसी कमजोरी के द्वारा वह आपको मायाजीत बनने नहीं देगी। माया उसी कमजोरी का लाभ लेगी और अन्त समय में भी वही कमजोरी धोखा देगी इसलिए सर्व शक्तियों का स्टॉक जमा कर, शक्तिशाली आत्मा बनो और योग के प्रयोग द्वारा हर कम्प्लेन को समाप्त कर कम्प्लीट बन जाओ। यही स्लोगन याद रहे -''अब नहीं तो कब नहीं''

स्लोगन: शान्ति और धैर्यता की शक्ति से विघ्नों को समाप्त करने वाले ही विघ्न-विनाशक हैं।

Song: Jo piya ke saath hai.... जो पिया के साथ है ...

The rain of knowledge is for those who are with the Beloved.

No comments:

Post a Comment


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...